क्या पैगम्बर मोहम्मद मजाक कर रहे थे?: Was Prophet Mohammad Joking?

(Scroll down for English)

बिना किसी व्याख्या के, प्रस्तुत हैं कुरान और हदीथ से कुछ ऐसी बातें जिसे देख के आप भी कहोगे, कोई मजाक है क्या?

१. पैगम्बर मोहम्मद जिनकी मृत्यु खुद जहर के कारण हुई थी, उनके पास इसका इलाज था | इलाज एक सावधानी थी ना के उपचार | पर अल्लाह ने उनको उस दिन सावधान नहीं किया जिस दिन उन्होंने जहर पिया | कुछ ऐसा कहना था जहर के बारे में पैगम्बर मोहम्मद का |

सहीह अल बुखारी ५४४५: उन्होंने कहा, “जो रोज सुबह ७ अज्वा के खजूर खता है, उसको जहर और जादू प्रभावित नहीं करता |

क्या कोई मुस्लमान भाई ये साबित कर सकता है ?

२. विज्ञान आपको बताएगा के आसमान एक अनंत शुन्य है जिसका कोई भौतिक अस्तित्व नहीं है| पर मोहम्मद मिया का कुछ और ही कहना था:

अल्लाह ने आसमान को पकड़ रखा है नहीं तो वो हमारे सर पे गिर जायेगा | सच में !!!!

कुरान सूरह २२ आयत ६५: क्या तुम देख नहीं रहे के अल्लाह ने इस जहां में सब कुछ तुम्हारे अधीन बनाया है| सामनुंदारी जहाज़ जो उसके आदेश पर चलते हैं| अल्लाह बहुत दयालु और दयावान है, उसने आसमान को पकड़ रखा है नहीं तो वो जमीन पर गिर जायेगा|

शायद ७वी सदी के लोगो के लिए यह मानना ठीक हो, पर कैसे कोई मुस्लिम आज भी इस बात में मान सकता है?

३. क्या कीजियेगा अगर आपकी पेय में मक्खी गिर जाये? पैगम्बर साहिब के पास जवाब था|

सहीह अल बुखारी ४:५४:५३७ – अबू हुरैरा कहते हैं

पैगम्बर साहिब ने कहा था “अगर घर में कोई मक्खी आपके पेय में गिर जाए, उसे पेय में पूरी तरह से डुबो दें, क्योंकि उसके एक पंख में बिमारी है और दूसरे पंख में उसी बिमारी का इलाज है|

मुझे नहीं पता इसके बारे में मैं क्या कहूं, बस अगली बार कर लीजियेगा|

४. सूर्य कीचड के झरने में डूबता है| यह इतना पुराण चल रहा है के सब जानते हैं, पर मुस्लिम इस बात को मना करते दिख जायेंगे| पर वो मना नहीं कर सकते उस बात को जो कुरान में बिलकुल साफ़ लिखी हो

कुरान सूरह १८ आयत ८६: जब वह सूर्य अस्त होने के स्थान पर पहुंचा, उसने देखा के सूर्य एक कीचड़ के झरने में दुब रहा था| उसने उसके पास लोगो को भी देखा| हमने कहा “ओ ज़ुल्क़मैन| (तुम्हारे पास अधिकार है) या तो उन्हें दण्डित करो या दया दिखाओ|

कुछ और भी हास्यपद बातें है जिन्हे कोई भी गैर-मुस्लिम तर्कपूर्ण मान नहीं सकता, हम वो सब बातें इसी पोस्ट पर अपडेट करते रहेंगे| हमारे साथ जुड़े रहने के लिए हमारे फेसबुक से संपर्क में रहे|

Without needing to contextualize, here are some of the things from Quran and Hadiths, which are self explanatory on how known and wise Mohammed was.

1. Mohammad Prophet who himself died to poison had a cure to it. But it was preventive cure not post. Allah didn’t reveal to Prophet that day, that he was about to consumer poison, or he would do something he told others.

Sahih Al Bukhari: 5445: Allah’s Messenger (ﷺ) said, “He who eats seven ‘Ajwa dates every morning, will not be affected by poison or magic on the day he eats them.”

Can any Muslim man prove it?

2. Science and everything will tell you that sky is an infinite and endless void. Sky isn’t a roof-like physical structure that can be held. But Prophet Mohammed had something else to say on this.

ALLAH HOLDS THE SKY AND PREVENTS IT FROM FALLING ON YOU. SERIOUSLY!!!

Chapter 22 – Verse 65: Seeest thou not that Allah has made subject to you (men) all that is on earth, and the ships that sail through the sea by his command? He withholds the sky from falling on earth except by His leave: for Allah is the most Kind and Most Merciful to man.

In 7th century, it might be possible for people of islam to believe in such things, but how Muslims can accept or believe in it even today?!

3. What would you do if a fly falls into your drink? Prophet had a good announcement for that too.

Sahih Al Bukhari 4:54:537 – Narrated Abu Huraira:

The Prophet said “If a house fly falls in the drink of anyone of you, he should dip it (in the drink), for one of its wings has a disease and the other has the cure for the disease.”

I don’t know what to make of it. Just follow it the next time a fly falls into your drink.

4. Sun sets into a muddy spring. Now this is so old and common that you already know it. But mostly muslims will deny Prophet saying such thing. But they can’t hide something that is written very clear in Quran.

Chapter 18 – Verse 86: Until, when he reached the setting of the sun, he found it set in a spring of murky water: near it he found a People: We said: “O Zulqarnain! (thou hast authority,) either to punish them, or to treat them with kindness

There are more hilarious stuff that are so divine that any non Muslim cannot logically accept them. We’ll keep this post updated when we bring forth any new additions. Stay tuned on our Facebook to get the updates.

Leave a Reply